फाइलों के माध्यम से कोरोना वायरस के संचरण को रोकने के लिए पश्चिमी रेलवे द्वारा 'अल्ट्रा वायलेट सेनिटाइजिंग मशीन' का निर्माण – वीडियो देखना

कोरोनवायरस के प्रसार को रोकने के लिए पश्चिम रेलवे ने एक महत्वपूर्ण कदम
उठाया है। साबरमती में The इंटीग्रेटेड कोचिंग डिपो ’ने एक अल्ट्रा वायलेट
सैनिटाइजिंग मशीन’ विकसित की है। 


यह मशीन किसी भी प्रकार के दस्तावेजों के
साथ-साथ फाइलों को भी साफ कर सकती है। इसलिए, इस मशीन के माध्यम से दस्तावेजों
के माध्यम से कोरोना वायरस के संचरण को रोकना संभव होगा।

अल्ट्रा वॉइलेट सैनिटाइजिंग मशीन


वेस्टर्न रेलवे ने अपने ट्विटर हैंडल से इस सैनिटाइजर मशीन का एक वीडियो
शेयर किया है। फिलहाल यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। कर्मचारियों को सरकारी और निजी कार्यालयों के दस्तावेजों के माध्यम से
कोरोना से संक्रमित होने की अधिक संभावना है। इसलिए, यह मशीन कार्यालय कर्मचारियों के लिए कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए
बहुत उपयोगी है।

कोरोना संक्रमण से बचाव की दिशा में एक अनोखी पहल के तहत WR के “एकीकृत
कोचिंग डिपो,साबरमती द्वारा अल्ट्रा वॉइलेट सैनिटाइजिंग मशीन का निर्माण किया
गया है।किसी भी तरह के दस्तावेज़/फ़ाइल को इस मशीन में रखकर आप इसे सैनिटाइज
कर सकते है।#FightagainstCoronavirus
@PiyushGoyal
@RailMinIndia
pic.twitter.com/AS4bAkZNBF

— Western Railway (@WesternRly)
June 22, 2020

इससे पहले, नासिक के सतना के राजेंद्र जाधव ने ट्रैक्टर की मदद से एक
स्वच्छता मशीन का निर्माण किया था। अपने गांव को कोरोना से बचाने के लिए, उन्होंने अपने खर्च पर एक
स्वच्छता मशीन का निर्माण किया। इस संबंध में, नरेंद्र मोदी ने अपने कार्यक्रम ‘मन की बात’ के माध्यम
से राजेंद्र जाधव की प्रशंसा की थी।

पिछले तीन महीनों से भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ रहा
है। देश में 4 लाख से अधिक लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके
हैं। जैसे-जैसे कोरोना रोगियों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है,
नागरिकों में डर का माहौल पैदा हो गया है। 

रविवार को देश में 14,821 नए कोरोना मरीज पाए गए। इसके अलावा 445 मरीजों की मौत हुई है। देश में अब तक 13,699 लोग कोरोना से मर चुके हैं और 2,37,196 मरीजों
ने कोरोना से पार पा लिया है।

Leave a Comment